राजस्थान न्यूज़

बारां जिले के छबड़ा मैं हुई हिंसा पर नया खुलासा। छबड़ा की ग्राउंड रिपोर्ट जारी, NCHRO की खास रिपोर्ट

बारां जिले के छबड़ा मैं हुई हिंसा पर नया खुलासा। छबड़ा की ग्राउंड रिपोर्ट जारी, NCHRO की खास रिपोर्ट

जानलेवा कोरोना:राजस्थान में हर घंटे 6 मरीजों की मौत, आज सबसे ज्यादा 18 हजार 298 नए केस मिले; 159 ने जान गंवाई, जयपुर में 14 माह का रिकॉर्ड टूटा

राजस्थान में कोरोना महामारी की दूसरी लहर बेकाबू हो रही है। रविवार को 24 घंटे में सबसे ज्यादा 18 हजार 298 नए कोरोना संक्रमित केस सामने आए। वहीं 11 हजार 262 लोग रिकवर हुए। इसके अलावा 159 लोगों की मौत हो गई। इसके हिसाब से प्रदेश में हर एक घंटे में 6 से ज्यादा मरीज दम तोड़ रहे हैं। राजस्थान में अब तक 4558 लोगों की जान जा चुकी है। इनमें सबसे ज्यादा माैतें राजधानी जयपुर और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गृह क्षेत्र जोधपुर में हो रही हैं।

राहत की बात यह है कि प्रदेश में रिकवरी रेट बढ़कर करीब 69 प्रतिशत के पास पहुंच गई है। यहां पिछले आठ दिनों में 72 हजार 730 लोग रिकवर हुए हैं। इनमें चार दिनों से रोजाना 10 हजार से ज्यादा लोग रिकवर हो रहे हैं। राजस्थान में अब तक 6.33 लाख लोग संक्रमित हो चुके हैं।

जयपुर में सबसे ज्यादा 4456 पॉजिटिव
राजधानी जयपुर में सबसे ज्यादा हालत खराब है। यहां कोरोना महामारी के दौर में पिछले 14 माह में पहली बार 4 हजार से ज्यादा कोरोना संक्रमित केस सामने आए। रविवार को 24 घंटे में 4456 पॉजिटिव केस मिले। 1490 लोग रिकवर हुए। इसके अलावा 34 लोगों ने दम तोड़ा। जयपुर में 851 लोगों की मौत हो चुकी है। यहां सबसे ज्यादा 42 हजार 756 एक्टिव केस हैं। कुल 1 लाख 18 हजार 780 लोग संक्रमित हो चुके हैं। जयपुर के 50 से ज्यादा इलाकों में रोजाना पॉजिटिव केस मिल रहे हैं।

कोरोना से अप्रैल के 27 दिनों में 139 लोगों की मौत हुई थी। वहीं पिछले 5 दिनों में 192 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। श्मशानों में शवों के दाह संस्कार के लिए वेटिंग चल रही है। लोग अपनों के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो पा रहे हैं। ऐसे में परिजन अपने मोबाइल फोन से वीडियो कॉल के जरिए चिता पर अपनों के अंतिम दर्शन कर रहे हैं।

दरवाजे खोलो सरकार लोग मर रहे हैं: 25 साल की बहन को ऑटो में लेकर जयपुर के 6 अस्पतालों में भटकता रहा भाई, SMS में भी मिले ताले, गेट पर दम तोड़ा, मरने से पहले हाथ जोड़कर कहती रही- मुझे बचा लो

प्रदेश के सबसे बड़े SMS हॉस्पिटल के बाहर बैंच पर पड़ा महिला का शव, नजदीक खड़ा भाई और बेबस होकर देखती भीड़

कोरोना महामारी में राजस्थान में कई गुना तेजी से बढ़ रही संक्रमण की रफ्तार में स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गई हैं। यहां कोरोना पेंशेंट्स के लिए बेड और ऑक्सीजन की किल्लत इतनी हो गई है कि अस्पतालों के गेट बंद कर दिए गए हैं। यहां ताले लगे हैं। नए पेशेंट को भर्ती करने के लिए जगह नहीं बची है। लिहाजा अब लोग ऑक्सीजन के लिए तड़पते हुए अस्पतालों के गेट पर ही दम तोड़ने लगे हैं।

ऐसा ही दर्दनाक वाकया राजधानी जयपुर में देखने को मिला। प्रदेश के सबसे बड़े SMS अस्पताल में शनिवार शाम 6 बजे 25 साल की एक महिला ने अपने भाई और आसपास लाचार खड़े लोगों की आंखों के सामने तड़पते हुए दम तोड़ दिया। वह हॉस्पिटल के गेट पर एक बैंच पर बैठे-बैठे हाथ जोड़कर कहती रही कि मेरा दम घुट रहा है, मैं मर जाऊंगी, मुझे बचा लो। उसे भर्ती करने के लिए इमरजेंसी के गेट नहीं खुले और उसकी करीब 15 मिनट के भीतर मौत हो गई।

इस घटना को देख परेशान हुए लोगों में आक्रोश पैदा हो गया। इनमें कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर इसका लाइव वीडियो चला दिया। इस मामले में SMS अस्पताल अधीक्षक डॉ. राजेश शर्मा का कहना है कि इस घटना की सत्यता की जांच करवाएंगे।

90 किलोमीटर का सफर कर एंबुलेंस से जयपुर पहुंचा, यहां छह हॉस्पिटलों में भटकता रहा
25 वर्षीया मृतक टोंक जिले में निवाई कस्बे में गुंसी गांव की रहने वाली थी। शनिवार को अचानक महिला की तबीयत बिगड़ गई। उसे सांस लेने में काफी दिक्कत होने लगी। दम घुटने लगा। ऑक्सीजन की जरूरत पड़ने लगी। बहन की हालत देखकर उसका भाई उसे निवाई और फिर टोंक पहुंचा। यहां कोई मदद नहीं मिली।

तब एंबुलेंस से बहन को लेकर 90 किलोमीटर दूर जयपुर के लिए रवाना हुआ। भाई पूरे रास्ते में बहन को किसी तरह हौसला देता रहा। यहां जयपुर में मालवीय नगर, जगतपुरा, प्रताप नगर में एक ऑटोरिक्शा में बैठाकर पांच अस्पतालों के चक्कर लगाए। बहन को भर्ती करने की गुहार की, लेकिन कहीं बेड और ऑक्सीजन नहीं मिली। पीड़ित भाई के मुताबिक सब हॉस्पिटलों में दरवाजे बंद थे।

हाथ जोड़कर करती रही पुकार- मेरा दम घुट रहा है मुझे बचा लो, मैं मर जाऊंगी
आखिरकार, ऑटोरिक्शा चालक दोनों भाई बहन को लेकर SMS अस्पताल पहुंचा। यहां इमरजेंसी गेट पर दरवाजा बंद मिला। यहां गुहार करने पर जवाब मिला कि सिर्फ RUHS से रैफर मरीज से भर्ती किए जा रहे हैं। इस बीच बहन की सांसें उखड़ती रही। वह हॉस्पिटल के मुख्य गेट पर एक बैंच पर बैठ गई। वहां महिला हाथ जोड़कर आसपास मौजूद लोगों से गुहार करती रही कि मेरा दम घुट रहा है। मुझे बचा लो। मैं मर जाऊंगी। आखिरकार उसने बैंच पर दम तोड़ दिया और निढ़ाल होकर गिर पड़ी। भाई फूट फूट कर रोने लगा। वह व्यवस्थाओं को कोसने लगा।

ऑटो ड्राइवर ने कहा- मालवीय नगर से लेकर SMS हॉस्पिटल लाया हूं, बेचारी ने दम तोड़ दिया
मृतका महिला और उसके भाई को SMS हॉस्पिटल लेकर पहुंचे ऑटोरिक्शा चालक ने बताया कि ये बेचारे गांव से आए थे। मेरे साथ ही चार हॉस्पिटलों में लेकर गए। वहां ताले बंद मिले। तब यहां लेकर आया। यहां भी इमरजेंसी पर ताले लगे मिले। किसी तरह बेचारी महिला ने दम भर रखा था। उसे उम्मीद थी कि वह जिंदा बच जाएगी। उसका इलाज शुरू हो जाएगा, लेकिन इतनी देर चक्कर लगाने के बजाए भी भाई बहन पर किसी ने दया नहीं की। यहां अस्पताल वाले लाचारी दिखाते हुए नियमों में उलझे रहे।