0 0
Read Time:3 Minute, 36 Second

जयपुर। पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के चेयरमैन ओ एम ए सलाम में मीडिया को जारी अपने एक बयान में कहा कि राजधानी में हुए मुस्लिम विरोधी कार्यक्रम निर्दोषों के खिलाफ हिंसा की प्रस्तावना है।
दिल्ली में पिछले सप्ताह लगातार दो दिन हुए कार्यक्रम बेहद खतरनाक हैं। हिंदुत्व समूहों ने शुक्रवार को नई दिल्ली के द्वारका सेक्टर 22 में हज हाउस के निर्माण के खिलाफ भरथल चौक पर मुस्लिम विरोधी महापंचायत की, जिसमें भड़काऊ नारे लगाए गए। फिर अगले ही दिन जंतर-मंतर पर एक बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमें महिलाओं और बच्चों सहित लगभग 5000 लोगों ने भाग लिया। यहां भी नारे लगाए गए और ऐसे पर्चे बांटे गए जिसमें देश के मुसलमानों का नरसंहार करने के आह्वाहन किया गया था। इस प्रकार के कार्यक्रम अचानक नहीं होते और न ही इनके परिणाम अच्छे होते हैं। इतनी बड़ी संख्या में लोगों को भड़काने के लिए एक लंबा भड़काऊ अभियान चलाया जाता है। आमतौर से ऐसे कार्यक्रमों के बाद कट्टर हिंदुत्व लोगों के द्वारा निर्दोष मुसलमानों के खिलाफ मंसूबाबंद तरीके से हमले, लूटमार, बलात्कार और आगजनी की घटनाएं देखने को मिलती हैं।
याद रहे कि फरवरी 2020 में उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुए मुस्लिम विरोधी नरसंहार से पहले बीजेपी और आरएसएस नेताओं ने इसी तरह रैलियां और भड़काऊ भाषण किए थे। जिस पर पुलिस के कोई कार्यवाही न करने के कारण हिंसा भड़की थी। सीएए-विरोधी प्रदर्शनकारियों के खिलाफ खुलेआम हिंसा की दावत देने वाले बीजेपी नेता आज भी आजाद घूम रहे हैं। यहां तक कि दंगों के बाद, अदालत की तरफ से भी दिल्ली पुलिस के रवैये पर कई बार फटकार लगाई गई।
ये घटनाएं बताती हैं कि सांप्रदायिकता व ध्रुवीकरण पर विश्वास रखने वाली ताकतें अपनी नफरत की राजनीति से नाराज़ जनता के बीच बढ़ती बेचैनी से घबराई हुई हैं, क्योंकि जनता एक वैकल्पिक राजनीति चाहती है, जो वेलफेयर और आर्थिक बेहतरी पर असल ध्यान देती हो। इस बदलाव को रोकने के लिए उनके पास एक ही रास्ता है; समुदायों को आपस में लड़ाना। पूर्व के अनुभवों से यह स्पष्ट होता है कि दिल्ली पुलिस हिंसा को रोकने और लोगों के जीवन को सुरक्षा प्रदान करने में पूरी तरह से असफल रही है। पॉपुलर फ्रंट राजधानी की सेक्युलर ताकतों से अपील करता है कि वे सांप्रदायिक सद्भाव को तोड़ने की इस नापाक कोशिश को रोकने और जनता के बीच सौहार्द्र व शांति बनाए रखने के लिए संयुक्त प्रयास करें।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *