0 0
Read Time:2 Minute, 43 Second

सवाई माधोपुर।
शहीद कैप्टन अब्दुल हमीद की जयंती के अवसर पर गुरुवार शाम को टीम “हमारा पैग़ाम भाईचारे के नाम” के द्वारा चलाए जा रहे मिशन “कलाम साहब की याद में हरा भरा और मोहब्बत से रहे हिंदुस्तान” के तहत आज शाम शहर के दाई की बगीची कब्रिस्तान में हुसैन खान आर्मी की अगुवाई में पेड़ लगायें गये।
मरणोपरांत परमवीर चक्र से सम्मानित कंपनी क्वार्टर मास्टर हवलदार अब्दुल हमीद भारतीय सेना के वो वीर हैं, जो वीरता और साहस का परिचय देते हुए 1965 के भारत-पाक युद्ध में कई पाकिस्तानी पेटन टैंकों को ध्वस्त कर दिया था.
इस अवसर पर टीम सदस्य मोइन खान ने अब्दुल हमीद को याद करते हुए बताया कि अब्दुल हमीद पूर्वी उत्तर प्रदेश के बहुत ही साधारण परिवार से आते थे लेकिन उन्होंने अपनी वीरता की असाधारण मिसाल कायम करते हुए देश को गौरवान्वित किया था. कहा जाता है कि जब 1965 के युद्ध शुरू होने के आसार बन रहे थे तो वो अपने घर गए थे, लेकिन उन्हें छुट्टी के बीच से वापस ड्यूटी पर आने का आदेश मिला. उस दौरान उनकी पत्नी ने उन्हें खूब रोका, लेकिन वे रुके नहीं. रोकने की कोशिश के बाद हमीद ने मुस्कराते हुए कहा था- देश के लिए उन्हें जाना ही होगा।
“हमारा पैगाम भाईचारे नाम” टीम के हुसैन आर्मी ने बताया कि टीम द्वारा विभिन्न जयंती तथा पुण्यतिथि के अवसर पर इसी प्रकार पेड़ लगाकर महापुरुषों को याद किया जाता रहेगा।
पेड़ों की देखभाल के लिए मस्जिद कमेटी, दाई की बगीची ने ज़िम्मेदारी ली है। इस अवसर पर वार्ड 34 के पार्षद असीम खान, प्रोफेसर राम लाल बेरवा, मोइन खान, मौलाना अबरार अहमद नाशरी, प्रवक्ता, जमीयत उलेमा ए हिंद, शाखा सवाई माधोपुर, साद खान, सलाम खान, जयराम मीणा, आदिल, कल्लू खान, जहीर अहमद आदि मौजूद रहे।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *