0 0
Read Time:2 Minute, 58 Second

माननीय राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जयपुर के निर्देशानुसार आज दिनांक 14.09.2022 बुधवार को श्वेता गुप्ता सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सवाई माधोपुर द्वारा आदर्श उच्च माध्यमिक विद्या मन्दिर सवाई माधोपुर में साइबर अपराधों की रोकथाम के संबंध में विधिक जागरूकता शिविर का आयोजन किया।
शिविर के दौरान उपस्थिति छात्र-छात्राओं व आमजन को श्वेता गुप्ता सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सवाई माधोपुर ने बताया कि साइबर अपराध एक आपराधिक कृत्य है जो इंटरनेेट के माध्यम से कंप्यूटर के उपकरण या किसी अन्य स्मार्ट उपकरणों के रूप में इस्तेमाल करते हुए इस काम को अंजाम दिया जाता है। हैकर या अपराधियों के पास इस अपराध को करने के विभिन्न उद्देश्य होते हैं। वे किसी व्यक्ति, किसी संगठन सरकार को भी नुकसान पहुंचाने के लिए ऐसा कर सकते हैं। साइबर अपराध के कई उदाहरणों में धोखधंडी, पहचान की चोरी, साइबर स्टॉकिंग, सिस्टम को नष्ट करने के लिए वायरस जैसे मैलेवर वनाना या भेजना या फिर पैसे कमाने के लिए डेटा चोरी करना आदि शामिल है। ऐसी गतिविधियों में शामिल लोग उन्हें पैसे कमाने का एक आसान तरीका मानते है। यहॉ तक की बहुत से पढे-लिखे और ज्ञान से परिपूर्ण व्यक्ति भी इस तरह की गतिविधियों मे ंशामिल होते है। अपने दिमाग को सकारात्मक तरीके से इस्तेमाल करने के बजाय वे साइबर अपराधिक गतिविधियों में खुद को नियुक्त करते है। दिन प्रतिदिन यह हमारे समाज और राष्ट्र के लिए एक बडा खतरा बनते जा रहा है।
साथ ही बताया कि साइबर अपराध वर्तमान परिदृश्य में इंटरनेट के माध्यम से किया जाने वाला सबसे प्रचलित अपराध बन चुका है। यह पीडित को गंभीर नुकसान पहुॅचाता है। इसलिए इस तरह के अपराधों से बचने के लिए हमें उपाय करने चाहिए। सतर्कतापूर्ण व्यवहार और सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन केवल एक सहायक उपकरण की तरह है जो साइबर अपराध की घटनाओं पर कुछ हद तक काबू पा सकें।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.